bcci.tv offered in: English Switch

Press Release

Features

कुलदीप बोले- धौनी से बेहतर कोई नहीं, विराट को ज्यादा रहती है मेरी फिटनेस की चिंता

टीम इंडिया के स्पिनर कुलदीप यादव का मानना है कि उनकी गेंदबाजी को महेंद्र सिंह धौनी से बेहतर कोई परख नहीं सकता है। धौनी गुरुवार को श्रीलंका के खिलाफ जब सीरीज का चौथा वनडे खेलने उतरेंगे तो ये उनके करियर में वनडे की ट्रिपल सेंचुरी होगी।

'चाइनामैन' गेंदबाज कुलदीप श्रीलंका के खिलाफ पहले तीन वनडे मैचों में नहीं खेले, लेकिन सीरीज में विजयी बढ़त बनाने के बाद कुलदीप को प्लेइंग इलेवन में जगह मिलने की उम्मीद है क्योंकि कप्तान विराट कोहली प्रयोग करने की कोशिश करेंगे। कुलदीप ने कहा, 'मेरे जैसे युवा गेंदबाज पर एमएस धौनी के प्रभाव के बारे में बताने के लिए शब्द नहीं हैं।'

उन्होंने कहा, 'अगर आप उनसे बात करोगे, जैसे कि पिछले छह महीने से मैं कर रहा हूं, तो बेशक उनसे सीखने के लिए काफी कुछ मिलेगा। मैं अपनी गेंदबाजी को लेकर उनसे बात करता रहता हूं।' कुलदीप ने कहा, 'आपको परखने के लिए उनसे बेहतर कोई नहीं हो सकता है क्योंकि वो विकेट के पीछे से आपको देख रहे होते हैं। वो मुझे बताते रहते हैं कि क्या करने की जरूरत है। मुझे बेहद गर्व है कि मैं उनके साथ खेल रहा हूं और बेहद भाग्यशाली हूं कि उनके 300वें मैच में खेल सकता हूं।'

BCCI Staff

CommentsBack to article

दुलीप ट्रॉफी का आयोजन होगा, इस वर्ष भी गुलाबी गेंद इस्तेमाल की जाएगी

हाल ही में भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने अपने घरेलू सत्र के क्रिकेट कैलेंडर में से दुलीप ट्रॉफी को हटा दिया था। इसका कारण बीसीसीआई ने बताते हुए कहा था कि समय की कमी के चलते इस ट्रॉफी का आयोजन इस साल नहीं किया जायेगा लेकिन सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासक समिति ने कड़े आदेश देते हुए, इस ट्रॉफी को आगामी सत्र में कराने का फैसला किया और बीसीसीआई को फैसला बदलवाया है।

प्रशासक समिति के चेयरमैन विनोद राय ने एक निजी खेल वेबसाईट से कहा कि हमने बीसीसीआई से कहा कि इस साल घरेलू सत्र में दुलीप ट्रॉफी का नाम क्यों नहीं है और हमें लगता है कि यह एक बेहद महत्वपूर्ण टूर्नामेंट है, जिसके न कराने का फैसला गलत है। इसलिए हमने बीसीसीआई को अपने फैसला बदलने के लिए कहा और दुलीप ट्रॉफी को घरेलू क्रिकेट कैलेंडर में शामिल करने के लिए बोला है।

बीसीसीआई के एक अधिकारी के अनुसार प्रशासक समिति ने बीसीसीआई टेक्निकल कमेटी से इस मामले को लेकर जवाब माँगा था, जिसके हेड भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली हैं लेकिन विनोद राय ने टेक्निकल कमेटी से ऐसी किसी भी बातचीत को लेकर इंकार कर दिया है। गौरतलब ये है कि सौरव गांगुली ने दुलीप ट्रॉफी को लेकर भी अपने विचार रखे थे, जिसमे उन्होंने कहा था कि मैंने मीडिया में सुना और पढ़ा है कि इस बार दुलीप ट्रॉफी का आयोजन नहीं हो रहा। मुझे इस मामले को लेकर पूरी तफ्तीश नहीं है लेकिन यदि आपको याद हो तो टेक्निकल कमेटी दुलीप ट्रॉफी के आयोजन में अपना समर्थन करती नजर आई है साथ ही हमने दुलीप ट्रॉफी में पिंक गेंद का इस्तमाल करने का सुझाव भी बीसीसीआई को दिया था और हर साल की तरह इस साल भी दुलीप ट्रॉफी का आयोजन करने की मांग की थी।

सौरव गांगुली के सुझाव और अब प्रशासक समिति के आदेशों के बाद बीसीसीआई इस टूर्नामेंट को आगामी घरेलू सत्र में करा सकती है। दुलीप ट्रॉफी पिछले 56 वर्षो से घरेलु सत्र का अहम हिस्सा है लेकिन भारतीय टीम के ऑस्ट्रेलिया, न्यूज़ीलैंड और श्रीलंका के खिलाफ व्यस्त घरेलू अन्तर्राष्ट्रीय सत्र को देखते हुए, इस बार दुलीप ट्रॉफी का आयोजन कम समय में किया जा सकता है।

BCCI Staff

CommentsBack to article